SJ WorldNews - шаблон joomla Авто
f1 l1 tw1 g1 g1
Breaking News

Webp.net gifmaker

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपनों को उत्तराखंड के एक भूमाफिया का झन्नाटेदार चांटा ( देखे स्टिंग )

ये सच है हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का सपना है स्वच्छ गंगा, निर्मल गंगा, के अभियान को उत्तराखंड के देहारादून मे एक बिल्डर द्वारा धता बताते हुए छाती चौड़ी कर आसन नदी के रकबे की भूमि पर अवैध फ्लैटो का निर्माण और प्लाटिंग कर रहा है। पूर्व मे भी खोजी नारद की टीम द्वारा सुमेरु इन्फ्रास्ट्रक्चर नदी की भूमि पर अवैध कब्जे को लेकर खबर प्रकाशित कर चुका है।

जबकि मोदी जी के द्वारा गंगा की सफाई के लिए अभियान शुरू हो गया है। गंगा सफाई का काम गंगा के उद्गम स्थल उत्तराखंड से शुरू किया जा चुका है। जबकि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत खुद प्रधानमंत्री के इस ड्रीम प्रोजेक्ट से शुरू से जुड़े रहे हैं। त्रिवेंद्र सिंह रावत को भाजपा द्वारा नमामि गंगे का राष्ट्रीय संयोजक बनाया गया था, अब वह राज्य के मुख्यमंत्री बन गए हैं तो उन पर मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करने की बड़ी जिम्मेदारी भी है।

इसके उलट बिल्डर राजेश जैन द्वारा आसन नदी का सीना चीरा जा रहा है करोड़ो रूपये के खनिज जैसे रेता, बजरी, बोल्डर नदी से निकाल कर बेच दिये गये और किसी को कानोकान भनक भी ना लगी ऐसा कैसे हो सकता है।

उत्तराखंड के सीएम इतने बड़े घोटाले पर चुप क्यो है?

ऐसा क्या है कि एक अदना सा बिल्डर नदी की भूमि को खुर्दबुर्द कर बेच रहा है और प्रधानमंत्री के 56 इंच के सीने को टक्कर दे रहा है और माननीय सीएम साहब के मुँह पर ताला लटका हुआ है।

आखिर आदरणीय सीएम साहब एवं प्रशासनिक अधिकारीगण मुँह मे कौन सा लोलीपॉप चूस रहे है कि जिससे उनकी बोलती बंद है।

बिल्डर राजेश जैन और नरेंद्र कुमार जैन ( नंदी जैन ) का पक्ष लेते ईस्ट होप टाउन के ग्राम प्रधान के पति तज्जमुल हुसैन का आप स्टिंग देखे कि वो शिकायतकर्ता को कैसे धमका रहे है और ये भी बोल रहे है कि 50 या 100 बीघा नदी की जमीन से कौन सा तूफान आ जाएगा।

शिकायतकर्ता आज़ाद अली को हर तरीके से देख लेने की बात करते दिख रहे है। आप खुद स्टिंग देखे:-

स्टिंग देखने के लिए लिंक पर क्लिक करे : https://youtu.be/ffz1D8or0cwदेखे स्टिंग

इस पूरे मामले मे मसूरी देहारादून विकास प्राधिकरण का रवैया भी संदेह के घेरे मे या यू भी कह सकते है टेबल के नीचे बड़ी अटैची का खेल भी खूब हुआ होगा? कुछ ज्वलंत सवाल ऐसे है जिसका जबाब तो अब पब्लिक भी मांग रही है।

क्यूकि साहब ये पब्लिक है यह सब जानती है अंदर और बाहर की हवाओ का रुख पहचानती है। पब्लिक के कुछ सवाल है जिनके जबाब जानने का उनको पूरा अधिकार है : -


1- 2013 से सुमेरु इन्फ्रास्ट्रक्चर बड़ोवाला मे फ्लैटो का निर्माण कर रहा है तो 2015/16 मे मानचित्र कैसे स्वीक्रत हुआ? जबकि कॉम्पाउंडिंग मानचित्र दाखिल होना चाहिए, करोड़ो रूपये के राजस्व की हानी किसने कारवाई?

2- सुमेरु इन्फ्रास्ट्रक्चर एक ग्रुप हाउसिंग प्रोजेक्ट है जबकि मानचित्र राजेश जैन के नाम से स्वीक्रत है, तो कैसे सुमेरु इन्फ्रास्ट्रक्चर और ईस्टन आर्क के नाम से बिल्डर मार्केटिंग कर रहा है ये भी बात गले से नीचे नहीं उतरती?

3- नदी के रकबे की भूमि पर प्राधिकरण ने मानचित्र कैसे स्वीक्रत कर दिया क्या राजेश जैन द्वारा जमा किए गए कागजो की जांच करने की जहमत भी अधिकारियो ने नहीं उठाई, ऐसा क्यो?

मसूरी देहारादून विकास प्राधिकरण को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपनों के बारे मे और देश मे गंगा और यमुना एवं उसकी सहायक नदियो पर चल रही परियोजनाओ तक की जानकारी नहीं है और यही अधिकारी और प्राधिकरण के कर्मचारी कितने आम आदमियो को चूसकर उनका कचूमर बना देते है ये बात पूरे उत्तराखंड को पता है। क्यूकि रिश्वत लेने के मामले मे प्राधिकरण के अधिकारी और कर्मचारी अभी तक जेल की हवा खा रहे है । खोजी नारद के द्वारा आपको अभी और विडियो दिखाये जाएंगे जिससे उक्त बिल्डर और बड़े अधिकारियों का पर्दाफाश होगा ।

इस भूमाफिया से संबन्धित खबरों को पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करे : -

क्या भगवान शिव के नाम पर सुमेरु इन्फ्रास्ट्रक्चर ने किया ऋषिमुनि की तपस्थली पर कब्ज़ा ?

चिरकुट बिल्डर ने बेचे पत्रकार! (बिक भी गए और पता भी ना चला)

क्या NH 74 जैसा है सुमेरु इन्फ्रास्टक्चर का घोटाला?

मेरे माथे पर "सी...... लिखा है और तुम क्या बी......." हो ?

Rate this item
(1 Vote)
khoji Narad Team

Uttarakhand No. 1 News Web Portal | Read Online Hindi news, khojinarad brings news in Hindi from India & World. Breaking News Daily news headlines, current affairs on politics, entertainment, sports, lifestyle, education and more.

Website: khojinarad.in/

Media

primi sui motori con e-max.it