SJ WorldNews - шаблон joomla Авто
f1 l1 tw1 g1 g1
Breaking News

Webp.net gifmaker

slideshow

slideshow (10)

Monday, Jul 10 2017
Rate this item
(0 votes)

खून के आंसू रोने वाली कहावत तो लोगों ने सुनी ही होगी, लेकिन क्या कभी ये भी सोचा है कि वाकई में ऐसा हो सकता है। हैदराबाद की रहने वाली तीन साल की बच्ची अहाना खून के आंसू ही रोती है। इस बीमारी के चलते माता-पिता और डॉक्टर बहुत डरे हुए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि इलाज के बाद खून का बहना कम हो गया है, लेकिन इसके स्थाई इलाज के बारे में कुछ भी कहना संभव नहीं है।

Tuesday, Jun 27 2017
Rate this item
(0 votes)

जब आप भेड़ के बारे में सोचते है तो आपके दिमाग में क्या आता है? एक गुदगुदा, गोल, ऊन से लदा हुआ जीव।  साउथ अफ्रीका के पूर्वीय भाग में स्थित लेडी फ्रेर नाम के गांव में भेड़ ने एक इंसान जैसे दिखने वाले जीव को जन्म दिया। यह देख कर सभी गांव वाले दंग रह गए और घबरा उठे। कई लोगों ने तो इसे एक चमत्कार माना जबकि कुछ लोगों उसे राक्षस बता रहे थे। यह खबर आग की तरह फैल गयी और वहां करीब चार हज़ार लोगों जमा हो गए।

Monday, May 22 2017
Rate this item
(0 votes)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इन दिनों थोड़े परेशान हैं. उनकी सरकार को बने दो महीने होने वाले हैं लेकिन उन्हें अभी तक प्रदेश की सबसे बड़ी समस्या को सुलझाने में सफलता नहीं मिली है। अपनी सरकार के दो महीने होने के मौके पर योगी ने दिल्ली के कुछ बड़े पत्रकारों को लखनऊ बुलाने का फैसला किया था वे इन्हें इंटरव्यू देने वाले थे, लेकिन फिलहाल पत्रकारों को लखनऊ न आने के लिए कह दिया गया है इस बदले मिज़ाज की वजह है उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ दिनों में बदले हालात

योगी आदित्यनाथ सरकार को पहले महीने मीडिया से खूब पब्लिसिटी मिली, लेकिन अब स्थिति तेजी से बदल रही है इसकी सबसे बड़ी वजह है उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था. सुनी-सुनाई है कि योगी ने इंटरव्यू देने से फिलहाल इंकार इसलिए किया क्योंकि वे जानते हैं अब पत्रकारों के पास उनसे पूछने को ढेरों सवाल हो गए हैं योगी सरकार के दो महीने के अंदर ही सहारनपुर में तीन बार दंगे जैसे हालात बने और हर बार इल्जाम भाजपा के नेताओं पर ही लगा. सहारनपुर को संभालने के लिए आदित्यनाथ ने पुलिस अफसर का तबादला नोएडा कर दिया, सहारनपुर के सांसद को लखनऊ बुलाकर समझाया लेकिन नए पुलिस कप्तान का स्वागत भी आगजनी और पत्थरबाजी से हुआ. पहली बार दो समुदायों के बीच भिड़ंत हुई थी, उसके बाद दो जातियों के बीच टकराव हुआ

सिर्फ सहारनपुर जिला ही ऐसा नहीं है जिसने योगी आदित्यनाथ की परेशानी बढ़ा रखी है, गोरखपुर उनका अपना जिला है वहां भाजपा के विधायक नई आईपीएस अफसर को धमकाते दिखे और आईपीएस ने भी विधायक साहब की पोल मीडिया में खोल दी अलीगढ़ में भैंस काटने को लेकर तनाव हो गया. जैसे ही एक घर में भैंस कटने की खबर फैली लोगों ने कानून हाथ में ले लिया पुलिस के सामने भैंस काटने वालों की जमकर पिटाई हुई फिर उन्हें पुलिस ने हिरासत में भी ले लिया. लेकिन बात यहीं तक नहीं रुकी इसके बाद भाजपा के स्थानीय नेताओं के दवाब में उन्हें थाने से निकालकर फिर पीटा गया

संभल में भी हिंदू-मुसलमानों के बीच झगड़े की खबर ने लखनऊ में नेताओं और अफसरों की नींद उड़ा दी, एक लव स्टोरी ने यहां लव जेहाद का रूप ले लिया. एक शादीशुदा हिंदू महिला के मुस्लिम लड़के के साथ चले जाने की खबर फैली तो अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के घर जला दिये गये. यहां भी पुलिस सिर्फ देखती ही रही. जिन लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ है उसमें से कुछ भाजपा के समर्थक ही बताए जाते हैं. अब संभल के इस इलाके में मुसलमान घर छोड़ रहे हैं और पुलिस उन्हें गांव में रहने के लिए ही मना रही है

लखनऊ में पुलिस मुख्यालय में खबर गर्म है कि मुख्यमंत्री किसी को भी ना बख्शने के आदेश दे रहे हैं, लेकिन सिर्फ कहने से कुछ हो नहीं रहा योगी आदित्यनाथ भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में भी अपने कार्यकर्ताओं को समझा चुके हैं कि वे कानून अपने हाथ में ना लें, लेकिन ऐसा ज़मीन पर नहीं हो रहा है सुनी सुनाई है कि शुरू में योगी आदित्यनाथ अफसरों के ज्यादा तबादले के पक्ष में नहीं थे लेकिन अब वे वही फॉर्मूला अपना रहे हैं जो ज्यादातर राजनेता वारदात होने के बाद अपनाने के लिए जाने जाते हैं योगी सरकार ने 13 मई को 39 आईपीएस अफसरों का तबादला कर दिया और 17 मई तो 67 अफसरों का

उत्तर प्रदेश में जितने जिले संवेदनशील माने जाते हैं वहां अब आईजी नहीं एडीजी खुद निगरानी करेंगे लखनऊ, बरेली, आगरा, मेरठ और वाराणसी जिले में अब एडीजी रैंक के अफसर को जिम्मेदारी दी गई है लेकिन जानकारों का मानना है कि योगी आदित्यनाथ को सबसे पहले कुछ ऐसे उदाहरण पेश करने होंगे जिससे अफसरों और उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को सचमुच में यह लगे कि वे अब कानून हाथ में लेने वाले किसी भी व्यक्ति को नहीं छोड़ने वाले हैं

अखिलेश अपनी सरकार में ऐसा पांच साल नहीं कर पाए, इसलिए वे आज विपक्ष में बैठे हैं योगी आदित्यनाथ के पास पांच साल का नहीं अगले लोकसभा चुनाव से पहले सिर्फ दो साल का समय है. अगर उन्होंने कुछ ऐसा किया जो मायावती, मुलायम और अखिलेश के वक्त नहीं हुआ तब ही वे इंटरव्यू देने के लिए फिर से पत्रकारों को बुला सकते हैं नहीं तो पहले के उदाहरण हमारे सामने हैं ही

Saturday, May 13 2017
Rate this item
(2 votes)

सोनभद्र में दुल्हे को दुल्हन ने शादी करने से इंकार कर दिया। दुल्हन को समझाने का प्रयास किया, लेकिन लड़की शादी करने के लिए तैयार नहीं हुई। दुल्हन ने सिर्फ इसलिए शादी से इंकार कर दिया कि दुल्हे का एक दांत टूटा था। अब मामला राबर्ट्सगंज कोतवाली तक पहुंच गया है।

Friday, May 12 2017
Rate this item
(0 votes)

सुनी-सुनाई है कि अरविंद केजरीवाल की सबसे कमजोर कड़ी फिलहाल दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन बन गए हैं. केजरीवाल उन्हें बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, लेकिन आगे ऐसा करना मुश्किल है। कहा जा रहा है कि सीबीआई और आयकर विभाग को सत्येंद्र जैन के खिलाफ कुछ पक्के सबूत मिल गए हैं और उनके खिलाफ बहुत जल्द एफआईआर दर्ज हो सकती है।

Saturday, Jan 21 2017
Rate this item
(0 votes)

‘मैं विज्ञान, सितारों और प्रकृति से प्रेम करता था लेकिन तब मैं लोगों से प्यार करता था बिना जाने कि इंसान बहुत पहले ही प्रकृति से कट चुका है. हमारी भावनाएं मौलिक नहीं. हमारा प्रेम गढ़ा हुआ है. हमारे विश्वासों पर रंग चढ़े हुए है.’

यह रोहित वेमुला के उस पत्र का एक अंश है जो उन्होंने आत्महत्या के ठीक पहले लिखा. उनके पत्र के इस अंश में एक युवा मन की छहपटाहट है. यह कितनी नई और कितनी पहचानी हुई भी है! प्रकृति की तरह स्वाभाविक होने की इच्छा लेकिन इस अहसास का तीखापन कि हम सब मनुष्य प्रकृति-च्युत प्राणी हैं? कि हमारा दुबारा प्राकृतिक होना नामुमकिन है? इसीलिए हम आदिवासी समाज को कई बार ईर्ष्या से देखते हैं. वे हमें किसी भूले सपने की याद दिलाते हैं, उस अवस्था की जो हमारी हो सकती थी लेकिन अब हमने खुद को जिसके नाकाबिल बना दिया है? और क्या इसी वजह से हम उनके प्रति एक खूनी नफरत से भर उठते हैं, उन्हें उनके आदिवासीपन से आज़ाद कराने के लिए हर कुछ करते हैं.

इंसान प्रकृति का अंग है, सितारों, पशु-पक्षी, पेड़-पौधे, वनस्पति या नदी, समंदर अथवा पहाड़ की तरह, इसे स्वीकार करना इतना आसान न था. वह खुद को सबसे अलग और विलक्षण मानता था तो उसके पीछे यह धारणा भी थी कि यह धरती ही ब्रह्मांड का केंद्र है.

ब्रूनो, गैलीलियो और डार्विन ने मनुष्य और पृथ्वी के केन्द्रिक विचार को धक्का दिया. ब्रूनो ने बताया कि यह विश्व कोई अपवाद नहीं है, ढेर सारी दुनियाओं का एक हिस्सा भर है. उसे इस ख्याल से बाज आने को कहा गया और आखिरकार इस पाप के लिए जलाकर मार डाला गया.

Sunday, Nov 27 2016
Rate this item
(0 votes)

एक निजी चैनल मालिक द्वारा उत्तराखंड मे 2014 मे हुश्न का जाल फेककर एक सेक्स कांड को अंजाम दिया गया था, जिसमे कई उच्च अधिकारियों को जेल की हवा खानी पड़ी थी। 

Sunday, Sep 04 2016
Rate this item
(1 Vote)

गुजरात के जूनागढ़ में शुक्रवार को एक अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल में चढ़े सांड को उतारने में फायर ब्रिगेड को खासी मशक्कत करनी पड़ी। सांड अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल में पहुंच तो गया लेकिन उतर नहीं पा रहा था।

Wednesday, Jul 27 2016
Rate this item
(0 votes)

एडल्ट फिल्मों की रानी सनी लियोनी ने बॉलीवुड में तो अपनी पहचान व जगह बना ली है और शायद यहीं वजह की अब फिल्म निर्देशकों को उनके जिंदगी का संघर्ष दिखाई देने लगा है और वे उनकी जिंदगी के उतार-चढ़ावों को फिल्मी पर्दे पर दिखाना चाहते हैं।खबर है कि फिल्म निर्देशक अभिषेक शर्मा सनी की जिंदगी पर

Tuesday, Apr 19 2016
Rate this item
(1 Vote)

आपने ट्वेन्टी ट्वेन्टी मैच तो बहुत देखे होंगे इसी तर्ज पर उत्तराखंड पेयजल विभाग मे उच्च पद पर बैठा एक अधिकारी अपने मातहत अधीनस्थ अधिकारियों का स्टिंग करवा रहा है और ये उच्च अधिकारी एक दो नहीं पूरे चार साल सालो से स्टिंग का खेल करवा रहा है।

primi sui motori con e-max.it