दिल्ली से सटे गुरुग्राम में ATM लुटेरों ने प्रशासन की नींद उड़ा रखी है. थाना प्रभारियों को सख्त निर्देश होने के बावजूद पुलिस एटीएम लूट की घटनाओं को रोकने में पूरी तरह असफल साबित हो रही है. आलम यह है कि गुरुग्राम में बीते दो महीने के भीतर एटीएम लूट को 14 वारदात हो चुके हैं.

वहीं पुलिस कार्रवाई की बात करें तो पुलिस के हाथ सिर्फ एफआईआर भर है. किसी वारदात से संबंधित न तो कोई सीसीटीवी फुटेज मिला है और न ही दूसरा सुराग. पुलिस से बेखौफ लुटेरे पूरी एटीएम मशीन ही उखाड़ ले जा रहे हैं.

गौरतलब है कि पुलिस कमिश्नर ने जिले के सभी थाना प्रभारियों को सख्त हिदायत दे रखी है कि जिस भी थाना क्षेत्र में एटीएम लूट की वारदात होगी, वहां के थाना प्रभारी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी. बावजूद इसके एटीएम लूट की वारदातें रुकने का नाम नहीं ले रहीं.

कुछ ही दिन पहले बेगमपुर खटोला इलाके में हुई एटीएम लूट के मामले में बादशाहपुर थाना प्रभारी विभागीय कार्यवाही भुगत रहे हैं. इसके बावजूद पुलिसिया सख्ती कारगर साबित नहीं हो रही है.

गुरुग्राम में बीते कुछ ही महीने लाखों रुपये की एटीएम लूट की वारदात को लुटेरे अंजाम दे चुके हैं. बेगमपुर खटोला में हुई एटीएम लूट के मामले में पुलिस की मानें तो रात करीब 1.30 बजे इस वारदात को अंजाम दिया गया.

पुलिस के मुताबिक, लुटरों की संख्या भी हर वारदात की तरह चार से पांच थी, लेकिन पुलिस के पास मात्र इतनी ही जानकारी इस वारदात के बाद सामने आई है.

इन सबके बीच सबसे बड़ा सवाल उठ खड़ा हुआ है कि एटीएम लुटेरे आखिर क्यों नहीं पकड़े जा रहे. इतना ही एटीएम लूट की लगभग सभी वारदातों का तरीका एक जैसा ही है.

सभी वारदातों में ऐसे एटीएम का चुनाव किया जाता रहा है, जहांसुरक्षा गार्ड मौजूद नहीं थे. इसके साथ-साथ गुरुग्राम के बाहरी इलाकों के एटीएम को ही लुटेरे निशाना बनाते आ रहे हैं.

गुरुग्राम पुलिस की कई क्राइम टीमें मामले को सुलझाने में लगी हैं, लेकिन अब तक का नतीजा सिफर ही रहा है और शातिर लुटेरे एक और वारदात को अंजाम देने की फिराक में लगे हैं.

Photo Gallery