टॉप 12 न्यूज़

rail

नेशनल वार्ता ब्यूरो (19-08-2017)

मुंबई से दिल्ली के लिए अगस्त क्रांति राजधानी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे दस यात्रियों के बैग चोरी होने का मामला सामने आया है। बैग में नकदी, गहने व अन्य कीमती सामान थे। राजधानी एक्सप्रेस के छह कोच के यात्री इस घटना से प्रभावित हुए हैं। निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर उतरे यात्रियों की शिकायत पर रेलवे पुलिस ने जीरो-रिपोर्ट दर्ज की है। डीसीपी रेलवे परवेज अहमद का कहना है कि घटना मध्य प्रदेश के रतलाम रेलवे स्टेशन के पास हुई है। ऐसे में जांच वहीं ट्रांसफर की जाएगी। पुलिस के अनुसार निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पहुंची अगस्त क्रांति राजधानी एक्सप्रेस के 10 यात्रियों ने शिकायत की कि उनका सामान चोरी हुआ है। यात्रियों ने शिकायत दी कि सुबह रतलाम के पास जब उनकी आंख खुली तो उनका सामान खाली था। जब उन्होंने पता करने की कोशिश की तो पता चला कि कुल छह कोचों से यात्रियों के सामान चोरी हुए हैं। किसी का पर्स गायब मिला तो किसी का मोबाइल फोन। किसी का पासपोर्ट व आधार कार्ड गायब था तो किसी की 20 से 50 हजार रुपये तक की नकदी से भरा बैग ही गायब मिला।

dr bhakti yadav indore 14 08 2017

नेशनल वार्ता ब्यूरो (18-08-2017)

इंदौर। पद्मश्री डॉक्टर भक्ति यादव का सोमवार सुबह निधन हो गया। वे 92 वर्ष की थीं और इस वर्ष ही उन्हें पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया था। जानकारी के मुताबिक वे लंबे समय से बीमार चल रहीं थी, लेकिन इस दौरान उन्होंने मरीजों को देखना नहीं छोड़ा था। डॉक्टर भक्ति यादव के नाम 64 साल में एक लाख से ज्यादा महिलाओं की डिलिवरी कराने का रिकॉर्ड भी था। इसके साथ ही वे इंदौर के महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज की पहली महिला डॉक्टर थीं। उन्हें को मध्यप्रदेश की पहली महिला रोग विशेषज्ञ माना जाता है। डॉ. भक्ति यादव से जुडे लोगों का कहना है कि वे सन् 1948 से ही नि:शुल्क उपचार कर रही थीं। जानकारी के अनुसार वे प्रसव कराने के लिए भी कोई शुल्क नहीं लेती थीं। उनका जन्म उज्जैन जिले के महिदपुर में 3 अप्रैल 1926 को हुआ था और वे परदेशीपुरा में अपने वात्सल्य नर्सिंग होम का संचालन करती थीं। भक्ति यादव की सेवा और समर्पण से कई महिलाओं ने डॉक्टर की बजाए अपनी मां का दर्जा दिया था। इंदौर में उनकी मिसाल सेवा की प्रतिमूर्ति के रूप में दी जाती है। डॉ. यादव ने अपने शोध पत्र 'प्रेग्नेंसी इन एडवोसेशंसÓ में 1962 में ही यह उल्लेख किया था कि आने वाले समय में 12 से 17 वर्ष की आयु की बालिकाओं में कौमार्य के समय गर्भावस्था की समस्या सबसे ज्यादा होगी। सामाजिक मूल्यों का ह्यास नैतिकता की कमी से यह समस्या उत्पन्न होगी। डॉ. रमण यादव के मुताबिक मां ने उस समय विपरीत परिस्थितियों में रहकर पढ़ाई की और बिना लाइट के कई जटिल प्रकार के ऑपरेशन किए।

t

नई दिल्ली से लखनऊ जा रही शताब्दी एक्सप्रेस बुधवार सुबह दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बची। उत्तर प्रदेश में खुर्जा स्टेशन के समीप लखनऊ-दिल्ली शताब्दी का इंजन अचानक डिब्बों से अलग हो गया। इस हादसे की भनक जब तक ड्राइवर को लगती इंजन चार बोगियों के साथ आगे निकल चुका था। सूचना मिलते ही रेल अधिकारी मौके पर पहुंच गए और दोबारा इंजन को डिब्बों से जोड़कर ट्रेन को रवाना किया गया। उधर, रेल प्रबंधन इस बात की जांच कर रहा है कि यह हादसा क्यों हुआ। बुधवार की सुबह नई दिल्ली से लखनऊ चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से रवाना हुई। वह तय समय पर गाजियाबाद रेलवे स्टेशन पहुंची, लेकिन बुलंदशहर के खुर्जा रेलवे स्टेशन के समीप इंजन ने बोगियों का साथ छोड़ दिया। इंजन अपने साथ चार बोगियों के साथ आगे बढ़ गया। एक प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक, ट्रेन अचानक चलते-चलते रुक गई। शताब्दी ट्रेन का इस तरह बिना स्टेशन के रुकना अप्रत्याशित था। जब ट्रेन से नीचे उतरकर देखा तो इंजन के साथ चार डिब्बे भी ट्रेन से अलग हो गए थे। इसके बाद एक-एक कर यात्री नीचे उतरने लगे। सूचना पर पहुंचे रेल अधिकारी दिक्कत दूर कर जल्द से जल्द ट्रेन रवाना करने की कवायद में जुट गए।  हालांकि, इस दौरान काफी देर तक रूट बाधित रहा। कुछ ट्रेनें भी प्रभावित हुईं। खासकर पीक आवर होने के चलते कुछ ट्रेनें देरी से दिल्ली पहुंची। इससे पहले रेल अधिकारियों का कहना था कि दूसरा इंजन मंगाकर ट्रेन को रवाना करने के बारे में विचार किया जा रहा है, हालांकि इसकी नौबत नहीं आई।

irctc water vending machinenwn

नई दिल्ली देशभर के रेल परिसरों में सस्ते दर पर स्वच्छ पेयजल सुनिश्चित करने के अपने प्रयास के तहत इंडियन रेलवे केटरिंग ऐंड टूरिजम कॉर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) की वर्ष 2017-2018 में 450 स्टेशनों पर 1,100 वॉटर वेंडिंग मशीन लगाने की योजना है। इन मशीनों से महज 1 रुपये में 300 मिली पानी मिलेगा। रेल मंत्रालय ने रविवार को कई ट्वीट में कहा कि ये वाटर वेंडिंग मशीनें (डब्ल्यूवीएम) सस्ते दर पर पेयजल उपलब्ध कराएंगी और इस पहल से करीब 2,000 लोगों को रोजगार मिलेगा। मंत्रालय ने बताया कि इस समय में देश में 345 स्टेशनों पर 1,106 डब्ल्यूवीएम हैं। मामूली दर पर स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के उद्देश्य से वर्ष 2015 में डब्ल्यूवीएम लगाने की परियोजना शुरू की गई थी। इन मशीनों से रिवर्स ओसमोसिस (आरओ) तकनीक से शुद्ध जल मिलता है। डब्ल्यूवीएम को 24 घंटे स्वचालित या हाथ से संचालित किया जाता है। मंत्रालय ने कहा कि इन मशीनों से मिलने वाला पानी बोतलबंद मिनरल वॉटर से भी सस्ता होगा।

Photo Gallery