• ओवर रेटिंग के खेल में बड़के भैया बने सुपरमैन आबकारी मंत्री को क्यो बना दिया बैडमैन?

    wine.jpgआबकारी विभाग की टीआरपी इन दिनो टॉप पर है वजह है ओवर रेटिंग का खेल, राज्य के कई जिलो मे आबकारी विभाग ओवर रेटिंग का डमरू बजा रहा है। हर दिन लाखो की शराब की बिक्री पर जनता से ओवर रेटिंग का मोटा रुपया किसकी जेब में जा रहा है। देहारादून जिले का हाल तो और भी सुभान है, यहाँ जिले में तैनात बड़के भैया के पास तो किसी के सवाल का जबाब देने तक की फुर्सत नहीं है। वो तो सुपरमैन की भूमिका में आजकल दिख रहे है, जगह जगह छापेमारी हो रही है लाखो के माल पकड़े जा रहे है पर बड़के भैया सालभर तक आंख कान की मालिश मे व्यस्त थे। अब अचानक से मालिश के बाद सुपरमैन की भूमिका में है। आबकारी मंत्री के पास किसी भी बात का जबाब नहीं है, क्या उनकी शह पर बड़के भैया सुपरमैन की भूमिका मे है या फिर मंत्री जी को विभाग के कार्यो में दिलचस्पी नहीं है?

    इस समय आबकारी मंत्री क्यो मनमोहन सिंह बने हुये है? विभाग के 3 से 4 सुपरमैनो की हरकतों से मंत्री जी की बैडमैन छवि बनती दिख रही है?

    क्या उत्तराखंड की सरकार जीरो टोंलरेन्स की है या फिर सवालो के जबाबों के टोंलरेन्स की है?

    अगर इस विभाग के मंत्री जी ने जल्द ही अपनी चुप्पी ना तोड़ी तो उनपर प्रश्न चिन्ह लगना तय है।

    Read more
  • तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-खम, से हुआ गिल्ली डंडे का मैच

     

    cricket_match.jpg

    कभी कभी खोजी नारद के पाठक सोचते होंगे की ये कैसे-कैसे शब्द है जिनको समझने के लिए दिमागी कसरत करनी पड़ती है। खोजी नारद आप सभी की दिमागी इंद्रियो को कसरत कराता रहता है।

    तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-खम से एक गिल्ली डंडे का मैच हुआ, जिसमे करोड़ो रुपये अला..बला विभागो का खर्च हुआ जैसे खली के प्रोग्राम में करोड़ो की बलि ली गयी थी।

    अबकी बार कंपनी के मालिक का खून जंवा था तो तुर्रा ए पुर पेच ओ खम का सहारा लिया गया और प्रोग्राम का सफल आयोजन हुआ।

    विभागो के कई भाई लोगो ने तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-खम का काफी लुत्फ लिया और मौज बहार भी बटोर ली। इन विभागो के भाई लोगो के पास तो विभागीय भुगतान करने के लिए भी कौड़ी कौड़ी का टोटा है, अब गिल्ली डंडे के लिए कौन सा पेड़ हिलाकर निकाल दिये समझ मे नहीं आया पर ये जरूर पता लगा सबको तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-खम का कंधा दिया गया था, कुबेर की चाबी खोलने के लिए।

    अब सवाल ये है कि इतना सब किस लिए अरे भाई लोगो बे...काक का सहारा ले लेते। पूर्व वाले साहब ने भी सहयोग किया खूब पर उनको तो ना सिरा पता चला ना छोर, अब अंदर से आवाज आ रही है उनके,

                          खुदा के वास्ते पर्दा ना उठा काबे का जालिम

                       कही ऐसा न हो यंहा भी कि वही काफ़िर सनम निकले

    अब आप सभी अपने दिमाग को जोरदार कसरत करवाए और जब तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-खमका पता चले तो फ़ेस....पर जरूर बके। ताकि विभागो के भाई लोग सतर्क हो जाए।

    Read more
  • “चच्चा का बच्चा” भीषण सलाहकार बना ज्ञानी पंडित

    golmaal_1.jpg

    आज कल का जमाना बड़ा खराब है अपने ही चिराग अपना घर फूँक तमाशा देखकर मज़े ले रहे है। अब “चच्चा के बच्चे” को ही ले लो, पाल पोस बड़ा किया, अब चच्चा के आगे पीछे बच्चा कलम को तलवार बना घुसा घुसा कर घायल कर रहा है।

    एक समय मे “चच्चा का बच्चा” “भीषण सलाहकार” बन बैठा और ज्ञानी होने का अहम पाल बैठा, एक दिन इस विभीषण ने साहब का सपना ही

    चूर-चूर नान कर दिया। इतना मक्खन लगा दिया साहब के, और फिर चूर-चूर कर दिया उनको, बस साहब देर से समझे।

    अब चच्चा के बच्चे के पीछे एक खबरनवीज पड़ गया, बच्चे ने अपने ज्ञानी पंडित वाला दिमाग लगा कर उसको अपने साथ मिला लिया।

    अब उस खबरनवीज़ को बच्चा बोला की मेरे पास तो कुछ नहीं सब साहब के गुर्गे ले गए, तुम को चच्चा ज्ञान देता हूँ।

    बस फिर क्या था एक टाइपिंग मिस्टेक को हथियार बना खरनवीज को बोला मेरा नाम छाप दो, फिर देखो सभी

    “आ-लाये सरकार” चच्चा के पीछे होंगे। हुआ भी यही “आ-लाये सरकार” ने तुरंत अपने हाकिमों को वस्तुस्थिति से

    अवगत कराने को बोला।

    अब परेशान चच्चा तुरंत अपने बच्चे के पास जाएगा या नहीं?

    बच्चा अंदर ही अंदर खुश है की खबरनवीज़ पहले उसके पीछे था उसका दिमाग घुमा चच्चा के पीछे लगा दिया।

    खबरनवीज़ भी खुश हो भागा-भागा घूम रहा है बच्चे ने काम पर जो लगा दिया।

    अधूरा ज्ञान शेर को बिल्ली तो बना गया लेकिन एक दिन तो साहेबे शेर का रुक्का परचम पर आएगा जरूर।

    "बच्चा" अब खाली भी था क्योकि भीषण सलाहकार “विभीषण” बनकर साहब की नैया डुबो आया था, अब ज्ञानी

    पंडित किसको अपने ज्ञान का प्रसाद बांटे। तो अपने दुश्मनों की लिस्ट बना साफ करने मे लगा है। ना इस बच्चे के

    गेम को चच्चा समझ पाये और ना ही खबरनवीज़। अब आ-लाहे सरकार को भी खबरनवीज़ द्वारा घेरे मे ले लिया।

    अब बारी किसकी ये अगली किस्त में क्यूकि परकाश कम हो गया है अब परकाश गद्दे में सोएगा।

    Read more

Photo Gallery